स्कूल में मैंने माँ की चुदाई प्रिंसीपल से होते देखी

में मैंने बताया कि मुझे पता चल गया था कि मेरी मम्मी हर सोमवार, बुधवार और शुक्रवार को स्कूल में छुट्टी के बाद बच्चों की पढा़ई के बहाने चुदाई करती है।
और मम्मी के बारे भी बताया कि उनका रंग गोरा, आँखों एवं बालों का रंग काला और बूब्ज़ काफी बड़े-बड़े और गोल हैं। उनकी फिगर का नाप 36डी-28-36 है और कद 5 फीट 6 इंच है। मम्मी की जांघें भरी हुई और बदन में कसावट है। मम्मी के बूब्ज़ और गांड बाहर को उभरे हुए तथा पेट समतल है। मम्मी की नाभि गहरी और बदन बहुत सेक्सी है।
सोमवार की चुदाई देखने के बाद मैं समझ चुकी थी कि मेरी मम्मी सिर्फ शराफत का नाटक करती है असल में बहुत बड़ी चुदक्कड़ छिनाल औरत है।
बुधवार को मैं जैसे ही घर आई, जल्दी से कपड़े बदल कर साईकिल उठा कर मम्मी के स्कूल की तरफ हो गई। मैंने साईकिल छुपा दी और अंदर देखा, वहाँ मम्मी की स्कूटी नहीं थी और मैं जल्दी से जाकर वहीं छुप गई।
मेरे छिपने के 2 मिनट बाद ही रूम का दरवाजा खुला और लाईट जली, मुझे लगा मम्मी होगी लेकिन जब मैंने देखा तो स्कूल का प्रिंसीपल था।
मैं समझ गई कि आज मम्मी की चूत चुदाई प्रिंसीपल से होगी।
प्रिंसीपल का नाम सुनील था और उसकी आयु करीब 40 साल होगी। उसका रंग गोरा और चेहरा क्लीन शेव था। उसका कद करीब 5 फीट 7 इंच और दिखने में काफी सुंदर था। उसका जिस्म बहुत फिट और बाल देखकर लगता था कि डाई किए हुए हैं।
तभी मम्मी आ गई और बाहर से ही बोली- पानी पीकर आती हूँ।
मैं वाटर कूलर के पीछे छुप गई ताकि मम्मी न देख न ले।
मम्मी ने सलवार कमीज पहन रखी थी, मम्मी पानी पीकर एक बोतल में पानी भरा और चली गई लेकिन 10 मिनट तक रूम में नहीं गई और मैं वहीं बैठी अंदर देखती रही।
प्रिंसीपल ने जेब से चार सिगरेट निकाली और एक एक करके उनका तंबाकू निकाल कर उनमें कुछ मिला कर दोबारा सिगरेट में भर दिया।
तब मुझे मालूम नहीं था कि उसमें क्या डाला है लेकिन अब मालूम है वो चरस थी।
मम्मी जैसे ही रूम में घुसी, मैंने मम्मी को ध्यान से देखा। मम्मी ने लाल रंग की लिपस्टिक लगाई हुई थी और बाल खुले हुए थे। मम्मी ने छोटी सी काले रंग की स्कर्ट और छोटा सा गहरे गले का टॉप पहना हुआ था जिससे मम्मी की भरी हुई जांघें, चिकना पेट और टॉप के गले से आधी चुची दिख रही थी, मम्मी काले रंग के ऊंची एड़ी के सैंडिल पहने हुई थी।
मम्मी ने अंदर आते ही कहा- कैसी लग रही हूँ जान?
प्रिंसीपल ने मम्मी को देख कर कहा- बहुत सेक्सी लग रही हो!
फिर मम्मी घूम गई और गांड प्रिंसीपल की तरफ घुमा ली। ऊंची एड़ी से मम्मी की गांड और भी उभरी आई थी।
मम्मी ने फिर कहा- अब?
तो प्रिंसीपल बोला- सच में तुम सनी नहीं सनी लियोनी लग रही हो।
मम्मी बड़े सेक्सी तरीके से गांड हिलाते हुए प्रिंसीपल की तरफ आने लगी और मुझे भी मम्मी किसी पोर्न स्टार जैसी लग रही थी। मैं सोच रही थी मम्मी ऐसे कपड़े कहाँ से लाती हैं और कहाँ रखती हैं।
मम्मी प्रिंसीपल के पास पहुंच कर उसकी गोद में बैठ गई। प्रिंसीपल ने मम्मी से पूछा- सनी डार्लिंग सामान ले आई?
मम्मी बोली- ऐसे नहीं… अच्छे से पूछो!
प्रिंसीपल बोला- बोल न गश्ती गोली लाई? जो खुद खाकर मुझसे मां चुदवाती है और मैं खाकर तेरी बहन चोदता हूँ।
मम्मी भी उसी अंदाज़ में बोली- हाँ बहन के लौड़े… लाई हूँ और पूरा पत्ता लाई हूँ ब्रा में हाथ डालकर निकाल ले बहनचोद!
प्रिंसीपल ने मम्मी के टॉप में हाथ डालकर गोलियों का पत्ता निकाल लिया और बोला- सनी डार्लिंग, जब तू गाली देकर बात करती है तो बिल्कुल रंडी लगती है, तुझे चोदने का जोश दोगुना हो जाता है।

loading…

मम्मी बोली- सुनील, जब तू गाली देकर बात करता है तो तुझ पर बहुत प्यार आता है।
मम्मी ने पानी की बोतल उठाई और प्रिंसीपल ने पत्ता खोलकर दो गोली निकाल लीं। प्रिंसीपल ने अपने हाथ से मम्मी को और मम्मी ने प्रिंसीपल को गोली खिलाई।
मम्मी फिर से प्रिंसीपल की गोद में बैठ गई और बोली- सुनील, साले भड़वे सिगरेट में सामान भर लिया या नहीं?
तो प्रिंसीपल बोला- भर लिया मां की लौडी़, जब तू कपड़े बदलने गई थी तभी भर लिया था।
मम्मी बोली- फिर जलाई क्यूँ नहीं हराम के अभी तक? तेरे हाथ से बनी सिगरेट पीने के बाद जो नशा होता है वो अलग ही है। जो नशा तेरे साथ पीने में आता है घर में खुद बनाकर छुप कर पीने से नहीं होता।
उस दिन मुझे मम्मी की नई बात मालूम हुई कि मम्मी रोज शराब सिगरेट और चरस का नशा करती है।
मैं सोच रही थी आगे न जाने क्या क्या राज़ खुलेंगे और नया राज़ उसी वक्त खुल गया।
प्रिंसीपल ने अपनी जेब से लाल रंग के कैप्सूल का पत्ता निकाला और बोला- पहले ये खा ले हरामजादी, नहीं फिर मांगेगी।
मम्मी ने पांच कैप्सूल निकाल कर प्रिंसीपल को खिला दिए और पांच खुद खा गई।
कैप्सूल खाने के बाद मम्मी बोली- साले दल्ले, तू खुद तो ये नशा करता है और मुझे भी ये नशा लगा दिया। वैसे इस नशे का सरूर बहुत है और चुदाई का मजा आ जाता है।
प्रिंसीपल बोला- तू चुदाई से पहले खुद ही मांगती है, मैं कौन सा तुझे जबरदस्ती खिलाता हूँ, चल अब जल्दी से मां चुदवा और सिगरेट जला!
मम्मी ने सिगरेट उठाई और जला कर कश खींच लिया। मम्मी ने अपने हाथों से सिगरेट प्रिंसीपल के होंठों के बीच दे दी।
प्रिंसीपल ने कश लगाकर धुआं छोड़ते हुए और मम्मी की जांघों को सहलाते हुए पूछा- सनी डार्लिंग, तेरी बेटी कैसी है। जिस दिन मैं तेरे घर गया था उस देखा था उसको! साली मस्त माल लगती है, अभी से साली की चुची इतनी बड़ी हैं, दो साल में तेरे जितनी बड़ी हो जाएंगी।
मम्मी कश लगा कर सिगरेट प्रिंसीपल को देते हुई बोली- हाँ, उम्र के हिसाब से उसकी चुची और गांड काफी बड़ी हैं लेकिन बहनचोद तू उसके बारे क्यों पूछ रहा है?
प्रिंसीपल बोला- नहीं यूं ही!
मम्मी अचानक हंसने लगी, प्रिंसीपल ने कहा- क्या हुआ?जो बात मम्मी बोली मुझे यकीन नहीं हुआ, मम्मी बोली- साले हरामी, मैं जानती हूँ सब, मैंने उसी दिन तुझे देख लिया था कि तू अर्श की चुची और गांड को ललचाई नजरों से देख रहा था।
प्रिंसीपल बोला- तू साली एक नंबर की हरामखोर है और तेरी बेटी भी पूरी रंडी लगती है। अगर मेरा बस चलता तुझे और तेरी बेटी को अपनी रखैल बना लेता। मुझे लगता है तेरी बेटी चुदने लायक हो गई है।
मम्मी बोली- सब्र रख बहन के लौड़े… मुझे मालूम है मेरी बेटी के बारे में… मेरी जैसी रंडी ही निकलेगी और अगर तेरी किस्मत में हुआ तो चोद लेना।
ऐसे बातें करते करते वो दो सिगरेट पी गए और नशा उनके सिर चढ़ कर बोलने लगा।
तभी मम्मी ने कहा- आज डांस करने का मूड हो रहा है।
प्रिंसीपल ने कहा- तूने मेरे मुंह की बात छीन ली… तो हो जाए!

loading…

प्रिंसीपल ने लैपटॉप पर गाना लगा दिया और मम्मी बांहें ऊपर करके कमर लचका लचका कर डांस करने लगी, प्रिंसीपल उठ कर मम्मी के पास चला गया और मम्मी के गाल पर चूम लिया, उसने मम्मी की कमर में हाथ डाल लिए तथा मम्मी ने उसके कंधों पर हाथ रखे और डांस करने लगे।
गाना खत्म होने तक दोनों ने चिपक कर डांस किया।
प्रिंसीपल ने पूछा- क्यों री रंडी की औलाद, एक और गाना लगा दूं?
मम्मी बोली- रहने दे बहनचोद, अब बिना गाने के बारी बारी डांस करते हुए कपड़े निकालेंगे।
प्रिंसीपल बोला- ठीक है, बहुत मजा आएगा।
मम्मी ने प्रिंसीपल को कहा- चल कुत्ते की औलाद, पहले तू उतार!
प्रिंसीपल बहुत अच्छा डांस कर रहा था औऱ पहले उसने अपने जूते निकाल कर फेंक दिए, फिर वो बड़े सेक्सी अंदाज़ में कमर हिलाते हुए शर्ट के बटन खोलने लगा।
उसने ऐसे करते हुए अपनी शर्ट और बनियान उतार कर मम्मी पर फेंक दी मम्मी ने चूम कर साईड पर रख दी।
मैं उसकी सुडौल बांहें और चौड़ी छाती देख कर पागल सी हो गई, दिल कर रहा था अंदर जाकर उसकी छाती को चूम चूम कर अपने होंठों की प्यास बुझा लूं।
अब वो अपनी जींस खोलने लगा और मम्मी के बिल्कुल पास आ गया। मम्मी ने उसकी छाती पर हाथ घुमाया और बारी बारी दोनों निप्पलों को चूम लिया।
प्रिंसीपल ने पीछे होकर अपनी जींस निकालकर मम्मी पर फेंक दी और अब सिर्फ अंडरवियर में था। उसके लंड से अंडरवियर में तंबू बना हुआ था और बहुत लंबा लग रहा था।
उसने अपना अंडरवियर उतार कर मम्मी की तरफ उछाल दिया। मम्मी ने बड़े सेक्सी तरीके से अंडरवियर को सूंघने के बाद चूम लिया।
मैंने प्रिंसीपल का लंड देखा वो मेरी कल्पना से भी लंबा, मोटा और जानदार था।
वो मम्मी के पास आया और मम्मी ने उसके लंड को चूम लिया। मेरा दिल कर रहा था मैं प्रिंसीपल के लंड को जी भर के चूस लूं और उससे चुदाई करवा लूं!
मेरी चूत भी गीली हो गई थी।
प्रिंसीपल सोफे पर बैठ गया और मम्मी को बोला- चल छिनाल, अब तेरी बारी, दिखा अपने सेक्सी बदन का जलवा! लेकिन सैंडिल मत निकालना… तेरी उभरी हुई गांड बहुत कामुक लग रही है।
मम्मी उठकर डांस करने लगी। मम्मी बहुत कामुक लग रही और बड़े कामुक तरीके से गांड हिला कर डांस करने लगी। मम्मी ने अपना टॉप निकालकर फेंक दिया और अपनी कमर को गोल गोल घुमा कर डांस करने लगी।
तभी मम्मी ने अपनी स्कर्ट की हुक खोलकर निकाल दी, अब मम्मी लाल ब्रा, लाल पैंटी और काले सैंडिल में थी।
मम्मी डांस करते-करते प्रिंसीपल के पास गई और उसकी तरफ गांड कर ली। प्रिंसीपल ने मम्मी की गांड पर चपत लगाई और ब्रा की हुक खोल दी।
मम्मी ने पीछे होकर बड़े स्टाइल से ब्रा निकालकर प्रिंसीपल के कान पर लटका दिया और फिर पैंटी निकालकर प्रिंसीपल को लंड पर लपेट दी।
प्रिंसीपल ने मम्मी के ब्रा और पैंटी को चूमा और टेबल पर रख दिया।
मम्मी अब बिल्कुल नंगी काले सैंडिल में चुची और गांड को हिलाते हुए शरारती मुस्कान चेहरे पर लाकर डांस कर रही थी।
मम्मी ने डांस करना बंद कर दिया और प्रिंसीपल को उंगली से इशारा कर के पास बुलाया।
जैसे ही प्रिंसीपल मम्मी के पास पहुंचा मम्मी उससे कसकर लिपट गई। मम्मी की बड़ी-बड़ी चुची प्रिंसीपल की छाती में गड़ गई और प्रिंसीपल का लंड मम्मी की चूत पर ठोकर मारने लगा।
दोनों ने एक-दूसरे को बाहों में कस कर भींच लिया, वो दोनों ऐसे आपस में चिपके हुए थे कि उनके बीच हवा भी नहीं निकल सकती थी।
कुछ देर ऐसे चिपके रहने के बाद वो एक-दूसरे की पीठ सहलाने लगे और मम्मी ने अपने होंठों को प्रिंसीपल के होंठों से मिला दिया। दोनों एक दूसरे के होंठों का रसपान करने लगे। एक दूसरे को चूमते वक्त मम्मी प्रिंसीपल की पीठ सहला रही थी और प्रिंसीपल मम्मी के उभरे हुए चूतड़ दबा रहा था।
इसी बीच मम्मी हिल हिल कर अपनी चुची प्रिंसीपल की छाती से रगड़ रही थी।
पहले तो आराम से एक-दूसरे को चूम रहे थे और फिर बहुत जोर से चूमने लगे। वो एक दूसरे होंठों को मुंह लेकर जोर से चूसते और हल्का हल्का दांतों से काटने लगे। वो एक दूसरे के मुंह में जीभ डालकर घुमाने और चूसने लगे।

loading…

इसी बीच प्रिंसीपल अपनी दो उंगली मम्मी की गांड के छेद में घुसा कर धीरे-धीरे हिलाने लगा। मम्मी का जोश और बढ़ गया और वो और जोर से चूमने लगी।
वो इतने जोर शोर से एक दूसरे को चूम रहे थे कि रूम से पुच्च पुच्च की आवाज़ आने लगी। मम्मी और प्रिंसीपल एक दूसरे के गालों, कानों और गर्दन के नीचे चूमते हुए गर्म हो रहे थे।
प्रिंसीपल कुर्सी पर बैठ गया और मम्मी उसके सामने खड़ी हो गई। मम्मी ने झुककर प्रिंसीपल के होंठों को चूमा और फिर उसके खड़े लंड पर चुम्मा लेकर सीधा खड़ी हो गई।
प्रिंसीपल ने मम्मी की तनी हुई चुची को हाथों में पकड़ कर दबाना चालू कर दिया और मम्मी उसके बालों में हाथ घुमाने लगी।
प्रिंसीपल बहुत जोर से मम्मी के स्तन मसल रहा था और मम्मी के हल्के भूरे निप्पलों को भी खींच देता। मम्मी बहुत मजे से अपने स्तन मसलवा रही थी और जब प्रिंसीपल मम्मी के निप्पलों को पकड़ कर खींच लेता तब मम्मी बहुत ही कामुक आहह भरते हुए प्रिंसीपल के बालों को भींच लेती।
अब प्रिंसीपल मम्मी के बूब्ज़ को चूसने लगा और वो बहुत जोर से मम्मी के बूब्ज़ मुंह में भरकर खींच लेता। जब वो मम्मी के बूब्ज़ खींच कर छोड़ता तो फच्च की आवाज़ आती।
प्रिंसीपल मम्मी के निप्पलों को भी बहुत जोर जोर से चूसने लगा और एकदम बेरहम हो गया। वो मम्मी को बूब्ज़ को बहुत बेरहमी से चूसने लगा और निप्पलों पर दांत गड़ाने लगा। जितना वो बेरहम हो रहा था उतना ही मम्मी को मजा आ रहा था और उतनी ही कामुक आहें मम्मी के मुंह से निकल रही थीं।
अब प्रिंसीपल मम्मी के पेट को चाटने लगा और गहरी नाभि में जीभ डालकर घुमाने लगा। प्रिंसीपल ने मम्मी की टांगें खोल दीं और पेट चूमते चूमते हाथ से मम्मी की चूत मसलने लगा। मम्मी बहुत ही कामुक आवाज़ें निकालती हुई मचलने लगी।
मचलते मचलते मम्मी अचानक बोली- वैसे तो शक्ल से तू अपने बाप की औलाद नहीं लगता लेकिन जिस तरह से मेरे बूब्ज़ चूसता है, पेट को चूमते हुए चूत मसलता है और मुझे चोदता है उससे तू उसी की औलाद लगता है।
मम्मी फिर बोली- तेरा लंड भी तेरे बाप जितना ही लंबा और मोटा है।
प्रिंसीपल ने मम्मी के पेट चूमना छोड़ कर पूछा- तुझे कैसे मालूम?
मम्मी हंसती हुई बोली- जब मेरी परीक्षा में उस स्कूल में ड्यूटी लगी थी यहाँ तेरा बाप टीचर था और तूने ही मिलवाया था। तब उसने मुझे कई बार चोदा था।
प्रिंसीपल बोला- लगता है मुझे वही औरत मिलती है जो मेरे बाप से भी चुद जाती है। पहले मेरी बीवी और अब तुम… मेरा बाप मेरी बीवी को तो रोज रोज चोदता है। पहले मैंने सोचा कि मेरी मां के बाद मेरा बाप अकेला रहा है अगर मेरी बीवी को कभी कभी चोद लेगा तो क्या जाता है। अब हम तीनों एक बिस्तर पर सोते हैं और बाप बेटा मिलकर उसको चोदते हैं, बहुत मजा आता है। सनी डार्लिंग लेकिन उतना नहीं जितना तुझे चोद कर आता है।
प्रिंसीपल ने मम्मी को बैड पर चलने को बोला और खुद बैड लेट गया। मम्मी उसके ऊपर 69 अवस्था में आ गई। मम्मी की चूत प्रिंसीपल के होंठों के पास थी और प्रिंसीपल का लंड मम्मी के होंठों के पास!
मम्मी ने अपनी गांड नीचे कर के चूत प्रिंसीपल के मुंह पर लगा दी और मुंह खोलकर प्रिंसीपल का लंड अपने मुंह में भर लिया।
प्रिंसीपल अपनी जीभ मम्मी की चूत में डालकर चाटने लगा और मम्मी अपनी गर्दन ऊपर-नीचे करके प्रिंसीपल का लंड चूसने लगी। प्रिंसीपल बहुत जोर से मम्मी की चूत चाट रहा था और मम्मी बहुत तेज़ी से लंड चूस रही थी।
मम्मी प्रिंसीपल का लंड गले की गहराई में लेकर चूस रही थी। उनकी गति इतनी थी को बहुत जोर जोर से सपड़ सपड़ और गपप गपप की आवाज़ें आने लगी।
अचानक मम्मी को बहुत जोश आ गया और वो प्रिंसीपल के चेहरे पर बहुत जोर से चूत मसलने लगी। कुछ देर बाद उसी अवस्था में प्रिंसीपल ने मम्मी को नीचे ले लिया और मम्मी के मुंह में गांड उठा उठाकर अपना लंड पेलने लगा।
जब प्रिंसीपल मम्मी के मुंह में झटका मारता तो पूरा लंड मम्मी के मुंह से होता हुआ उनके गले में उतर जाता। प्रिंसीपल कुछ देर मम्मी के गले में लंड फंसा कर रखता और बाहर खींच लेता।
मम्मी लंबा सांस लेती और फिर झटके से लंड मम्मी के गले की गहराई में होता।
कुछ देर बाद प्रिंसीपल ने पूछा- सनी डार्लिंग, कहाँ से शुरू करें?
मम्मी बोली- हर बार चूत से शुरू करते हैं, आज गांड से करते हैं।
मम्मी टेबल पर हाथ रखकर झुककर खड़ी हो गई, प्रिंसीपल ने मम्मी की गांड के छेद पर और अपने लंड पर तेल लगा लिया, अपना लंड मम्मी की गांड के छेद पर रखा तो मम्मी बोली- धक्का इतनी जोर से मारना कि लंड एक बार में ही गांड फाड़कर अंदर घुस जाए।
प्रिंसीपल अपना लंड मम्मी की गांड पर रगड़ते हुए बोला- यही तेरी अदा मार डालती है। बाकी सब धीरे धीरे करने को बोलती हैं और तू एक बार में घुसाने को बोलती है। तभी तुझे चोदने में सबसे ज्यादा मजा आता है।
उसने बहुत जोरदार शॉट मारा और एक बार में ही प्रिंसीपल का लंबा मोटा लंड मम्मी की गांड में समा गया।
मम्मी के मुंह से बहुत जोरदार चीख निकली और प्रिंसीपल मम्मी की गांड में अपना लंड तेज़ी से अंदर-बाहर करने लगा। मम्मी बहुत जोर से चिल्ला रही थी, बोल रही थी- फाड़ दे मेरी गांड… आहह आआहहह बहुत मजा आ रहा है जानू और जोर से फाड़ साली को! बहुत लंड खाती है।
मम्मी के चिल्लाने से प्रिंसीपल का जोश और बढ़ गया और वो ज्यादा तेज़ी से और ज्यादा जोरदार शॉट से मम्मी की गांड चोदने लगा। मम्मी अपनी गांड गोल गोल घुमा कर गांड चुदाई का मजा लेने लगी।
प्रिंसीपल ने मम्मी की गांड से लंड निकालकर चूत के छेद पर टिका दिया और जोरदार शॉट से मम्मी की चूत में पेल दिया। मम्मी की चीखने चिल्लाने का दौर प्रिंसीपल के धक्का मारने से फिर शुरू हो गया। प्रिंसीपल ने मम्मी को बालों से पकड़ लिया और पीछे से मम्मी की चूत जोर जोर से चोदने लगा।
मम्मी भी अपनी गांड को तेज़ी से आगे पीछे करके चुद रही थी। पूरा रूम मम्मी एवं प्रिंसीपल की कामुक आंहों और फच्च… फच्च… की आवाजों से गूंज रहा था। मम्मी के बूब्ज़ भी धक्कों की गति से उछल-कूद कर रहे थे, बालों से पकड़ कर पीछे से मम्मी की चूत चुदाई ऐसे लग रही थी जैसे मम्मी घोडी़ हो और प्रिंसीपल उनकी सवारी कर रहा हो।
प्रिंसीपल और मम्मी बहुत जोरदार चुदाई कर रहे थे और मैं अपनी चूत में दो ऊंगलियां डाले हुए हिला रही थी।
प्रिंसीपल ने मम्मी को बैड पर उल्टा लेटाकर पेट के नीचे तकिया रख दिया और मम्मी के गांड की फांकें खोलकर लंड गांड के छेद पर रख दिया, उसने हाथ बैड पर रखकर जोर से अपनी गांड नीचे धकेल दी और लंड मम्मी की गांड में समा गया। प्रिंसीपल मम्मी की गांड में लंड पेलने लगा और मम्मी भी अपनी गांड ऊपर-नीचे कर के गांड में लंड अंदर-बाहर करने लगी।
मेरी गांड में भी खुजली होने लगी और मैं एक उंगली गांड की तरफ की।
तभी मुझे वहाँ आधी जली हुई मोटी मोमबत्ती दिखाई दी जो कम से कम डेढ़ इंच मोटी होगी और मैंने अच्छे से साफ करके थूक लगा कर गांड में ले लिया।
इधर प्रिंसीपल मम्मी की गांड बहुत जोर से बजा रहा था, उसने मम्मी को सीधा किया और मम्मी की टांगें चौड़ी कर लीं। उसने मम्मी के ऊपर आ कर मम्मी की चूत मे लंड पेल दिया और जबरदस्त शॉट मार कर मम्मी की चूत चोदने लगा।
मम्मी भी नीचे से गांड पटक पटक कर चुदाई करवाने लगी और मम्मी ने प्रिंसीपल के गले में बांहें डालकर उसके होंठों से अपने होंठ मिला दिए, प्रिंसीपल ऊपर से मम्मी के होंठ चूसते हुए उछल उछल कर मम्मी की चूत चुदाई कर रहा था और मम्मी नीचे से उसके होंठ चूसते हुए गांड उठा उठाकर चुदाई करवा रही थी।
वो दोनों बैड से उतर गए और मम्मी मम्मी दीवार के पास चली गई। मम्मी अपने बूब्ज़ दीवार से सटा कर अपनी गांड की फांकें अपन।गांड चुदाई का आनन्द ले रही थी।
अब प्रिंसीपल ने मम्मी की गांड से लंड निकालकर मम्मी को घुमा दिया। प्रिंसीपल ने अपनी एक बाजू मम्मी की टांग में डालकर मम्मी की टांग ऊपर उठा ली और मम्मी दीवार के सहारे खड़ी हो गई।

loading…

प्रिंसीपल ने ऐसे खड़े-खड़े मम्मी के होंठों पर होंठ रखकर मम्मी की चूत में लंड पेल दिया। मम्मी ने प्रिंसीपल के होंठ चूसते हुए उसके गले में बांहें डाल लीं। प्रिंसीपल जोर जोर से मम्मी की चूत बजाने लगा और मम्मी उसके होंठों को चूसते हुए जोर जोर से प्रिंसीपल की पीठ मसलने लगी।
एकाएक प्रिंसीपल की धक्के मारने की गति बहुत तेज़ हो गई और मम्मी भी बहुत तेज़ी से एवं ऊंची कामुक चीखें मारने लगी। मम्मी ने बहुत जोर से प्रिंसीपल की पीठ को बाहों में भींच लिया और बहुत जोर से गांड हिलाते हुए जोरदार चीख के साथ हाथ ढीले छोड़ दिए।
तभी प्रिंसीपल ने मम्मी की चूत से लंड निकाला और मम्मी नीचे बैठ गई। मम्मी ने लपक कर प्रिंसीपल का लंड मुंह में ले लिया और प्रिंसीपल मम्मी के मुंह में झटके मारने लगा।
8-10 प्रिंसीपल का जिस्म अकड़ने लगा और उसने मम्मी का सिर पकड़ कर लंड मम्मी के गले में उतार दिया। अब उसकी गांड धीरे धीरे चल रही थी और आहह आआहह करते हुए उसका जिस्म भी ढीला पड़ गया।
उसने मम्मी के मुंह से लंड निकाल लिया और उसके लंड से अभी भी कुछ वीर्य टपक रहा था। मम्मी ने जीभ से चाट कर वो भी साफ कर दिया और दोनों सोफे पर बैठ गए।
दोनों ही हाँफ रहे थे और पसीने से दोनों भीग चुके थे।
प्रिंसीपल ने मम्मी से कहा- यार सनी, तेरे साथ चुदाई की वासना बुझा कर जो संतुष्टि मिलती है वो अपनी बीवी या किसी और औरत से नहीं मिलती। सच में यार, तू बहुत गर्म है और परले सिरे की चुदक्कड़ रंडी है।
दोनों ने एक-दूसरे को चूमा और टॉवेल से पसीने को साफ करने लगे।
मैं वहाँ से निकल आई और मम्मी से पहले घर पहुंच गई।
शुक्रवार को मम्मी ने क्या गुल खिलाये, वो अगली कहानी में
प्रिंसीपल मम्मी के पीछे खड़ा हो गया और पीछे से मम्मी के बूब्ज़ पकड़ कर मम्मी की गांड के छेद पर लंड रख दिया। उसने अपनी गांड को थोडा़ पीछे खींच कर जोर से आगे को धक्का मारा और लंड मम्मी की गांड में गुम सा हो गया।
प्रिंसीपल पीछे से मम्मी के बूब्ज़ दबाते हुए मम्मी की गर्दन को चूमते हुए मम्मी की गांड चोदने लगा और मम्मी भी दीवार पर हाथ रखकर अपनी गांड आगे-पीछे कर के गांड चुदाई का आनन्द ले रही थी।
अब प्रिंसीपल ने मम्मी की गांड से लंड निकालकर मम्मी को घुमा दिया। प्रिंसीपल ने अपनी एक बाजू मम्मी की टांग में डालकर मम्मी की टांग ऊपर उठा ली और मम्मी दीवार के सहारे खड़ी हो गई।
प्रिंसीपल ने ऐसे खड़े-खड़े मम्मी के होंठों पर होंठ रखकर मम्मी की चूत में लंड पेल दिया। मम्मी ने प्रिंसीपल के होंठ चूसते हुए उसके गले में बांहें डाल लीं। प्रिंसीपल जोर जोर से मम्मी की चूत बजाने लगा और मम्मी उसके होंठों को चूसते हुए जोर जोर से प्रिंसीपल की पीठ मसलने लगी।
एकाएक प्रिंसीपल की धक्के मारने की गति बहुत तेज़ हो गई और मम्मी भी बहुत तेज़ी से एवं ऊंची कामुक चीखें मारने लगी। मम्मी ने बहुत जोर से प्रिंसीपल की पीठ को बाहों में भींच लिया और बहुत जोर से गांड हिलाते हुए जोरदार चीख के साथ हाथ ढीले छोड़ दिए।
तभी प्रिंसीपल ने मम्मी की चूत से लंड निकाला और मम्मी नीचे बैठ गई। मम्मी ने लपक कर प्रिंसीपल का लंड मुंह में ले लिया और प्रिंसीपल मम्मी के मुंह में झटके मारने लगा।
8-10 प्रिंसीपल का जिस्म अकड़ने लगा और उसने मम्मी का सिर पकड़ कर लंड मम्मी के गले में उतार दिया। अब उसकी गांड धीरे धीरे चल रही थी और आहह आआहह करते हुए उसका जिस्म भी ढीला पड़ गया।
उसने मम्मी के मुंह से लंड निकाल लिया और उसके लंड से अभी भी कुछ वीर्य टपक रहा था। मम्मी ने जीभ से चाट कर वो भी साफ कर दिया और दोनों सोफे पर बैठ गए।
दोनों ही हाँफ रहे थे और पसीने से दोनों भीग चुके थे।
प्रिंसीपल ने मम्मी से कहा- यार सनी, तेरे साथ चुदाई की वासना बुझा कर जो संतुष्टि मिलती है वो अपनी बीवी या किसी और औरत से नहीं मिलती। सच में यार, तू बहुत गर्म है और परले सिरे की चुदक्कड़ रंडी है।
दोनों ने एक-दूसरे को चूमा और टॉवेल से पसीने को साफ करने लगे।
मैं वहाँ से निकल आई और मम्मी से पहले घर पहुंच गई।
शुक्रवार को मम्मी ने क्या गुल खिलाये, वो अगली कहानी में!

loading…

5 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published.