रंडी के साथ प्यार भरा सफर

Randi Bhabhi Ki chudai Kahani

Randi Bhabhi Ki chudai Kahani हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम विनीत कुमार है और मेरी उम्र 34 साल है। दोस्तों में दिल्ली का रहने वाला हूँ और यह बात जिसको आज में आप सभी गंदीकहानियाँ डॉट कॉम के चाहने वालों के लिए लिखकर बताने जा रहा हूँ, यह करीब तीन महीने पहले की एक सच्ची घटना है और यह तब मेरे साथ घटी जब में अपने ऑफिस जा रहा था। एक दिन ऐसे ही जब में द्वारिका से करीब बीस किलोमीटर पहले सुबह के समय अपने ऑफिस के लिए निकल रहा था, उसी समय मैंने रास्ते में देखा कि दो औरतें जिनकी उम्र करीब 27-28 साल थी, वो दोनों सड़क के किनारे पैदल जा रही थी। फिर अचानक मेरी नज़र कार से चलते समय उनसे जा टकराई और अब में उनसे थोड़ा ही आगे निकाल था कि उसी समय मेरा मोबाईल बज उठा। अब ट्रेफिक नियम की वजह से मुझे अपनी कार को वहीं पर रोकना पड़ा, जैसे ही मैंने अपनी कार को रोका और में अपने मोबाईल पर बात कर रहा था, इतने में वो दोनों औरतें अब पीछे से चलती हुई मेरी कार तक पहुंच चुकी थी।
अब उनमे से एक ने मेरी कार का शीशा बजाया, तब मैंने अपनी गाड़ी का शीशा थोड़ा सा नीचे करके उनसे पूछा कि क्या बात है? तब उन्होंने मुझसे कहा कि प्लीज आप हमे थोड़ा आगे तक अपनी कार से छोड़ दीजिए, हम दोनों बहुत दूर से पैदल चलते हुए आ रहे है, लेकिन हमे अब तक कोई भी साधन नहीं मिला इसलिए हम बहुत थक चुके है। अब मैंने उनसे कहा कि रूको, वो इंतजार करने लगी और फिर मोबाईल पर मेरी बात खत्म करके मैंने उन दोनों को अपनी कार में बैठा लिया और उसके बाद हम चल पड़े। फिर अचानक से उनमे से एक जो मेरी पिछली सीट पर बैठी हुई थी, उसने मुझसे कहा कि में उन दोनों में से किसी के साथ कुछ भी कर सकता हूँ। दोस्तों पहले तो मेरी कुछ भी समझ में नहीं आया कि वो मुझसे क्या कह रही है? उसकी बात का क्या मतलब है? लेकिन फिर कुछ इधर उधर दिमाग घुमाने के बाद में तुरंत समझ गया कि वो मुझसे सेक्स करने की बात कर रही है। फिर मैंने उसको कहा कि मुझे तुम्हारे साथ यह काम करने में कोई भी रूचि नहीं है, लेकिन वो मेरी बात को बीच में काटकर कहने लगी कि उनके पास कंडोम भी है और मैंने फिर भी उसको ना कहा। अब उसने मुझसे पूछा कि इसमे समस्या क्या है?
दोस्तों में सबसे पहले एक बात आप सभी को बता देना चाहूँगा कि उनमे से एक के बदन का आकार 34-30-40 था और दूसरी के बदन का आकार 34-28-38 था। दोस्तों उनमे से एक औरत की गांड बहुत मस्त और चौड़ी भी थी, वो दोनों बहुत ही हॉट सेक्सी थी, जिसको देखकर किसी का भी मन ललचाने लगे और वैसे तो में भी दिखने में बहुत अच्छा था। अब मैंने उसको कहा कि यार मैंने कभी भी सेक्स नहीं किया, क्योंकि मुझे कभी ऐसा कोई मौका ही नहीं मिला, जिसका में फायदा उठाकर किसी की चुदाई के मज़े ले लूँ। अब उसने एक बार फिर से सेक्स करने के लिए मुझसे आग्रह किया, लेकिन मैंने उसको कहा कि अभी सुबह का समय है और में तो वैसे भी अपने ऑफिस को पहुंचने में लेट हो रहा हूँ। अब वो कहने लगी कि सिर्फ हम थोड़ा ऊपर से ही कर लेते है, लेकिन मैंने फिर भी अपनी तरफ से उसको कोई ऐसा संतुष्ट जवाब नहीं दिया। दोस्तों मेरा ऑफिस मेरे घर से करीब तीस किलोमीटर की दूरी पर है और मुझे वहां तक पहुंचने में करीब 1:30 घंटे का समय लगता है और फिर वो चुप हो गयी। अब उन दोनों में से जिसकी गांड बहुत सेक्सी बाहर निकली हुई थी, वो मेरे पास वाली सीट पर थी, उसने मुझसे कहा कि प्लीज तुम हमारी बोनी (दिन की पहली कमाई) करा दो।

नये साल पर दो रंडियों की चुदाई | Naye Saal par do Randiro Ki chudai

दोस्तों वो यह सब मुझसे इसलिए कह रही थी, क्योंकि उन दोनों का पहला ग्राहक में ही था और अब मैंने उसको कहा कि यार देखो मैंने कभी सेक्स नहीं किया और तुम दोनों मुझे इस काम में बहुत ज्यादा अनुभवी लगती हो, में तुम्हारी प्यास कैसे बुझा पाऊँगा? क्योंकि मैंने बहुत बार सेक्स की कहानियाँ पढ़ी थी जिसमें लिखा होता है कि पहली बार में तो हर लड़का सेक्स करने में बहुत नासमझ होता है। फिर मैंने उस सेक्सी गांड से कहा कि एक बात और है कि तुम्हारी गांड का यह आकार देखकर ही में समझ गया हूँ कि तुम्हारी चूत चुदाई करवाकर कितनी खुल चुकी होगी? तुम वैसे भी 27-28 साल की लगती हो, लेकिन तुम्हारी इस चौड़ी गांड के आगे मेरा छोटा सा लंड क्या रुक पाएगा? अब मेरे मुहं से यह बात सुनते ही वो पिछली सीट वाली लड़की बोली कि हाए में मर जावा गुड खाके यह मुंडा किन्नी सोनी गल करदा है, में तो पूरी गीली हो गयी हाँ इसकी ऐसी बात सुनकर और फिर मेरी तरफ देखकर उसने गियर पर से हाथ उठाकर अपनी चूत के पास करने की कोशिश की और बोली कि देख में यह सुनते ही अब बहुत गीली हो गई हूँ।
दोस्तों मैंने उसकी चूत पर हाथ तो नहीं लगाया, अपना हाथ वापस खींच लिया और उसको कहा कि मुझे कार चलाने दे नहीं तो दुर्घटना हो जाएगी। अब वो मुस्कुराते हुए बोली कि एक हादसा तो तभी हो गया था, जब तुमने हम दोनों को अपनी कार में बैठाया था और अब मैंने उनसे पूछा कि तुम दोनों वैसे जाओगी कहाँ? तब पिछली सीट वाली उस लड़की ने मुझसे पूछा कि तुम कहाँ जाओगे? मैंने कहा कि में तो साउत एक्स जाऊंगा। अब वो फिर से बोली कि प्लीज एक बार सेक्स कर लो, अब तुम्हारी यह बातें सुनकर मेरी भी गीली हो चुकी है। फिर मैंने उसको कहा कि में सेक्स तो नहीं करूँगा हाँ, लेकिन तुम चाहो तो में तुम दोनों साउत एक्स तक मेरे साथ में जरुर चल सकती हो, वहाँ पर तुम्हे कोई भी अच्छे दमदार ग्राहक मिल जाएँगे। अब पिछली सीट वाली लड़की ने दूसरी लड़की से कहा कि यार हम अब उतर ही जाते है। फिर वो मुझसे बोली कि तुम हमे अगली लाल बत्ती पर ही उतार देना। अब मैंने कहा कि हाँ ठीक है, लेकिन उसी समय मुझे ऐसा लगा कि शायद आगे की सीट पर बैठी वो लड़की पिछली सीट पर बैठी लड़की की उस बात के लिए तैयार नहीं हुई और इसलिए वो अब पीछे बैठी वाली लड़की से कहने लगी कि वो मेरे साथ साउत एक्स जाएगी और में उसको वहीं पर ही छोड़ दूँ।
 
अब पीछे वाली लड़की ने उस लड़की से कहा कि यार मुझे पक्का विश्वास हो गया है कि तू अब इसके चक्कर में आकर अपना समय खराब कर रही है, यह नहीं मानने वाला। फिर आगे वाली लड़की ने जवाब दिया कि कोई बात नहीं, क्योंकि उसने आज पहली बार कोई लड़का देखा है जो एक लड़की से उसके मुहं पर ही वो अपनी चुदाई उसके साथ करने के लिए तैयार है, लेकिन फिर भी वो उसको सेक्स के लिए मना कर रहा है। वो चुदाई जैसा काम एक चूत जिसके पीछे आज पूरी दुनिया पागल है उसको यह ठुकरा रहा है। फिर दोबारा पिछली सीट वाली लड़की ने मुझसे बोला कि में आखरी बार तुमसे पूछ रही हूँ, में फ्री में भी तुम्हे अपनी चुदाई का मौका दे रही हूँ। दोस्तों चाहता तो में उसको फ्री में चोद सकता था, लेकिन मैंने कहा कि नहीं ऐसी कोई बात नहीं है। फिर अगली लाल बत्ती पर पिछली सीट वाली लड़की उतर गयी और अब कार में मेरे साथ वो मस्त सेक्सी गांड ही बैठी हुई थी। अब उसने मुझसे पूछा कि क्या कभी भी मेरा दिल सेक्स करने के लिए नहीं करता? तब मैंने कहा कि हाँ करता तो है, लेकिन में चाहता हूँ कि में अपनी पहली चुदाई में फैल ना हो जाऊँ? तब उसने कहा कि में तुम्हे ठीक तरीके से सब कुछ समझा दूंगी कि कैसा क्या कब करना है?
अब में एक बार फिर से कहने लगा कि तुम्हारी चूत तो बहुत बार चुदाई की वजह से बहुत खुल चुकी होगी, क्योंकि तुम तो कई लोगों के साथ सेक्स कर चुकी हो। अब उसने कहा कि ऐसी कोई बात नहीं है, एक लड़की को जितनी भी बार अलग अलग लड़के चोद लें, उसकी चूत पर तब तक कोई भी खास फर्क नहीं पड़ता जब तक की वो माँ ना बन जाए और वो हमेशा कंडोम काम में लेती है, इसलिए वो कभी माँ बनी ही नहीं, इसलिए अब भी उसकी चूत बड़ी टाइट है। अब मैंने उसको पूछा कि वैसे तुम्हारी ठीक उम्र कितनी होगी? और तुम्हारा पति क्या करता है? तब उसने कहा कि उसके पति से कुछ काम नहीं होता, इसलिए वो कोई भी काम नहीं करता हाँ वो नशा बहुत करता है और नशा करने के लिए ही उसने मुझे करीब दो साल पहले अपने एक दोस्त के साथ सेक्स करने के लिए मजबूर किया था और फिर उसके बाद घर में पैसा भी आने लगा। अब उसी पैसे से उसके पति का काम चलने लगा और उसका पति सेक्स करने में भी बहुत कमजोर था और फिर वो कहने लगी कि अपने पति की मार से बचने के लिए और पैसा कमाने के लिए वो एक अनुभवी रंडी बन गयी। दोस्तों मुझे उसकी वो सभी बातें सुनकर उसके लिए थोड़ी सी हमदर्दी हो गयी और इसलिए मैंने उसको पूछा कि अगर तुम्हे कोई भी अच्छी नौकरी मिल जाए तो क्या तुम यह सभी गंदे काम छोड़ सकती हो?
अब वो मुस्कुराते हुए कहने लगी कि अब तो चुदने में उसको बड़ा मज़ा आता है, हाँ अगर कोई एक आदमी उसको लगातार अपना लंड दे दे तो शायद वो यह सभी गंदे काम छोड़ दे, लेकिन सब लोग चालू होते है। अब इसलिए वो किसी पर विश्वास नहीं करती, क्योंकि सभी लोग उसकी चूत मारने के बाद उसको पूछते भी नहीं, इसलिए उसके लिए यह सब बेकार की बातें है। अब मैंने उसको पूछा कि तुम अब मेरे साथ अपना समय क्यों खराब कर रही हो? वो बोली कि तुम एक बहुत ही मजेदार आदमी हो, इसलिए में तुम्हारे साउत एक्स तक जा रही हूँ वहाँ पर अगर मुझे कोई चूत का प्यासा मिल गया तो उसका काम बन जाएगा। फिर मैंने उसको कहा कि भगवान तुम्हारे काम को जरुर पूरा करे और वो मेरे मुहं से यह बात सुनकर हंस पड़ी, तब मैंने उसको कहा कि में क्या एक बात कहूँ अगर तुम उसका बुरा ना मानो तो? वो पूछने लगी कि हाँ बोलो वो क्या? तब मैंने उसको कहा कि तुम्हारे बूब्स बहुत मोटे और भरे हुए है इनका आकार बहुत अच्छा है, तुम इनका इतना ध्यान कैसे रखती हो? तभी वो हंसती हुई बोली कि दिन में एक बार मुझे कोई ना कोई आदमी मिल ही जाता है। फिर में उसके साथ अपनी चुदाई करवाने के साथ ही अपनी छाती की मसाज भी करवा लेती हूँ, जिसका यह असर तुम्हारी आँखों के सामने है। फिर उसने अपने पर्स से एक अच्छी कंपनी के तेल की शीशी निकालकर दिखाई। दोस्तों ये कहानी आप गंदीकहानियाँ डॉट कॉम पर पड़ रहे है।
अब मैंने उसको कहा कि तुम हो तो बड़ी सुंदर हॉट सेक्सी होने के साथ साथ बहुत दिमागवाली भी हो। फिर वो मुझसे कहने लगी कि आप बातें बड़ी अच्छी करते हो, वैसे आप हो भी साफ दिल के आपकी आँखों में वहशीपना नहीं है और आज तक ऐसी साफ नजरें उसने कहीं नहीं देखी और फिर वो मुझसे कहने लगी कि तुम यह बूब्स क्या अंदर से नहीं देखना चाहोगे? में उसके मुहं से वो शब्द सुनकर सिर्फ मुस्कुरा दिया, लेकिन तभी अचानक से उसको पता नहीं क्या हुआ? उसने अपना एक हाथ मेरे पैरों पर रख लिया और सीधे मेरे लंड को पकड़ लिया और वो मुझसे पूछा कि में ऐसा क्यों सोचता हूँ कि उसकी मोटी गांड को मेरा लुल्ला कैसे संतुष्ट करेगा, लेकिन उसी समय मेरा लंड छूकर जैसे उसको करंट लग गया हो, उसने अपना हाथ तुरंत वापस पीछे खींच लिया। अब वो मुझसे कहने लगी कि तुम मुझसे झूठ बोल रहे हो, तुम्हारा लंड तो तनकर खड़ा है और में इतनी देर से उसको कह रहा हूँ कि सेक्स करने में मुझे कोई रूचि ही नहीं है? तब में उसको बोला कि क्या तेरा दिमाग़ खराब हो गया है? क्या यह लंड खड़ा करने का टाइम है? पागल औरत यह अभी नींद में है। अब वो मेरी बात को सुनकर मुझसे कहने लगी कि में बकवास कर रहा हूँ और उसने एक बार फिर से मेरे लंड को टटोलना शुरू किया।

फिर से मेरे लंड को पकड़कर देखा, लेकिन इस बार तो उसको मेरा लंड कुछ मुलायम सा लगा, वो कहने लगी कि हाँ यह खड़ा तो नहीं है, लेकिन मुझे विश्वास नहीं होता कि इतना मोटा लंड सो रहा है। फिर जब यह खड़ा होगा तो कितना लंबा होगा? वो बहुत चकित होकर अब मुझसे पूछने लगी कि क्या मैंने सच में आज तक किसी की चूत नहीं ली? मैंने कहा कि हाँ और वो मुझसे पूछने लगी कि मैंने अब तक शादी क्यों नहीं की? तब मैंने जवाब दिया कि ऐसे ही बीवी के नखरे कौन उठाएगा? अब वो मेरी तरफ हंसती हुई कहने लगी कि जिस लड़की से भी तुम्हारी शादी होगी, उसकी किस्मत तुम्हारा मोटा तगड़ा लंड पाकर चमक जाएगी। अब वो मुझसे आग्रह करके कहने लगी प्लीज एक बार इस लंड को मुझे दिखा तो दो। तब मैंने उसको कहा कि बाहर बहुत भीड़ है वो लोग हमे देखेंगे, वो कहने लगी कि में अपना दुपट्टा बीच में रख लूँगी जिसकी वजह से किसी को कुछ भी नहीं दिखाई देगा। अब मैंने उसको कहा कि यह ठीक नहीं है, तुम यह सब नाटक करके मेरे साथ अपनी चुदाई की तैयारी कर रही हो, लेकिन में इस समय तुम्हे चोदने के मूड में बिल्कुल भी नहीं हूँ।
अब वो मुझसे कहने लगी कि नहीं में तुमसे मेरी चुदाई के बारे में नहीं कहती, में तो सिर्फ तुम्हारे उस लंड को एक बार जी भरकर देखना चाहती हूँ और वो मुझसे कोई भी ज़बरदस्ती भी नहीं करेगी और ना ज्यादा कुछ दिखाने करने के लिए कहेगी। अब वो तो यह देखना चाहती है कि वास्तव में क्या मेरा लंड सो रहा है? फिर मैंने उसको कहा कि हाँ वो सो रहा है, लेकिन तुम्हे फिर भी मेरी बात पर विश्वास नहीं होता तो ठीक है, तुम उसको सोता हुआ देख सकती हो। अब उसने मेरे मुहं से मेरा वो जवाब सुनकर खुद ही तुरंत मेरी पेंट की चैन को खोला और मेरे लंड को अपना एक हाथ अंदर डालकर बहुत प्यार से बाहर निकाल लिया। अब वो लंड को अपने सामने देखकर अपनी चकित नजरों को पूरा फैलाकर वो ज़ोर से चीख पड़ी हाए राम इतना बड़ा लंड, मेरे रब्बा में ते अपनी जिंदगी विच नहीं देखया इन्ना वडा लंड वो भी सोया हुआ हाय रब्बा में इन्नु लेवनगी ते यह मेरी चूत विच घुसयेगा की वी नहीं। दोस्तों उसका कहने का मतलब यह था कि इतना मोटा, बड़ा लंड मेरी छोटी सी चूत में आएगा कैसे? अब मैंने उसको कहा कि तुम इतना हैरान क्यों हो रही हो? वो पूछने लगी जब यह अपनी नींद से उठकर खड़ा होता है तो इसकी ठीक लम्बाई कितनी होती है? मैंने उसको कहा कि मैंने कभी उसको नापकर नहीं देखा।
फिर वो मुझसे बोली कि प्लीज एक बार इसको खड़ा करने दो ना? तब मैंने उसको कहा कि यार तुम इतने बड़े, लंबे लंड अपनी चूत में पहले भी ले चुकी हो और अब तुम मेरे सामने नाटक क्यों कर रही हो? तब वो मुझसे कहने लगी कि नहीं साहब ऐसा बिल्कुल भी नहीं है जैसा आप समझ रहे हो। अब तक मैंने ज्यादा से ज्यादा चार इंच का ही लंड लिया है और वो कहने लगी कि मैंने तो सिर्फ ब्लूफिल्मों में ही अब तक इतना बड़ा देखा था, असल में कभी नहीं देखा और में मन ही मन में हमेशा सोचती थी कि सही में किसी भारतीय का इतना बड़ा लंड हो ही नहीं सकता। अब में उसकी वो सभी बातें सुनकर हंस दिया और मैंने उसको कहा कि तुम बिल्कुल पागल हो, वो बोली कि सच साहब बोली इक वार में इन्नु खड़ा करके वेखना चौँगी। दोस्तों वो कह रही थी कि में एक बार इसको खड़ा करके देखना चाहती हूँ। अब में बोला कि नहीं तू इसको वापस अंदर डाल दे, क्योंकि तेरा वो मुझसे किया हुआ वादा था याद कर तूने मुझसे क्या कहा था कि तू इसको बिल्कुल भी नहीं छेड़ेगी। फिर वो कहने लगी कि प्लीज एक बार इसको खड़ा करने दो में और कुछ भी नहीं करूँगी। अब मैंने दोबारा उसको कहा कि नहीं, फिर उसने मुझसे बात करने के साथ साथ मेरे लंड के साथ अब खेलना भी शुरू कर दिया।

Bhabhi Ki Khatti Mithi Choot – Hindi Sex Story

अब मुझे उसका मेरे लंड के साथ ऐसा करना अच्छा तो लग रहा था, लेकिन में उस चुदक्कड़ रंडी के साथ सेक्स करने के बिल्कुल भी मूड में नहीं था, लेकिन उस कुत्ती कमीनी ने एक मिनट में ही मेरे मना करने से पहले ही लंड को अपने नरम हाथों के स्पर्श से तुरंत खड़ा कर दिया। अब मेरा लंड खड़ा होकर बहुत बुरी तरह से फुकारने लगा और वो उसको लगातार सहलाए जा रही थी। दोस्तों में अब अपने उस लंड को खड़ा हो जाने की वजह से क्योंकि वो खड़ा होने के बाद उस खुली हुई चेन से वापस अंदर नहीं जा सकता था और इसलिए में उसको अब अंदर भी नहीं कर सकता था। अब मेरे लंड को खड़ा करने के बाद वो उसको देखकर बड़ी चकित होकर एक बार फिर से चीख पड़ी और कहने लगी कि हाए राम इतना लंबा लंड उसने लंड को अपने हाथ से नापा और बोली कि यह करीब 6 इंच से कम नहीं होगा और बहुत देर तक वो मेरे लंड को अपने मुलायम, गोरे हाथों से लगातार मसाज करती रही और उसने मेरे लंड को पूरा खड़ा करके एकदम तैयार कर दिया। अब वो मुझसे कहने लगी कि हाए मेरे रब्बा यह तो बहुत लंबा और मोटा है और वो मुझसे कहने लगी कि प्लीज मुझे एक बार तुम फ्री में ही चोद लो और अगर में चाहूं तो वो इसको अपनी चूत के अंदर लेने के लिए कुछ भी करने को तैयार है।
फिर वो कहने लगी कि यह उसकी गांड को बहुत अच्छे से चोदकर बड़े अच्छे तरीके से शांत कर सकता है और वो मुझसे बोली कि अगर में चाहूं तो वो उसकी इस चुदाई के पैसे भी दे सकती है। फिर मैंने उसको बोला कि लो कर दी ना तुमने अब वही रंडियों वाली बात, वो मेरे मुहं से यह बात सुनकर हंस पड़ी और कहने लगी कि अब इस तरह से इस लंड को मेरे हाथ में देकर तुम मुझे अगर तड़पाओगे तो में और क्या कहूँगी? और कहने लगी कि वैसे भी तुम एक रांड से और क्या उम्मीद करते हो? फिर उसने अपनी वो बात खत्म करके मेरी तरफ आंख मारकर झट से नीचे झुककर मुझसे बिना कुछ पूछे तुरंत मेरे लंड को उसने अपने मुहं में भर लिया और वो उसको चूसने लगी। अब मैंने उसको बहुत बार अपने लंड से दूर करने की बड़ी कोशिश की, लेकिन वो नहीं मानी और वो लगातार मेरा लंड चूसती रही और अपने मुहं में लंड को अंदर बाहर करती रही। अब मैंने उसको कहा कि यार हमारे पास में बहुत सारी गाड़ियाँ जा रही है, बाहर से हमे कोई देखकर क्या सोचेगा? वो बोली कि तो तुम अपनी इस कार को एक साइड में कहीं सुनसान जगह देखकर रोककर खड़ी कर लो, में आज इसका पूरा रस पीने के मूड में हूँ और में इसको आज ऐसे नहीं छोड़ सकती चाहे, कोई भी कुछ भी सोचे मुझे उससे कोई भी मतलब नहीं है।
फिर मैंने उसको कहा कि प्लीज अब तुम मेरा लंड छोड़ दो, नहीं तो मेरे सारे कपड़े खराब हो जाएँगे। फिर बोली कि कुछ भी खराब नहीं होंगे और मुझसे बात करने के साथ ही वो मेरे लंड को पूरा अंदर तक लेने लगी, जिसकी वजह से मुझे बड़ा मस्त मज़ा आ रहा था और फिर वो मुझसे पूछने लगी कि कितना समय लगाओगे झड़ने में? काश तुम इसके साथ मेरी चूत और गांड दोनों मारते तो इस प्यासे लंड को थोड़ा गीलापन मिल जाता और मेरी चूत-गांड दोनों इसको हमेशा याद रखती। अब मैंने उसको कहा कि तुम अब रूको, क्योंकि अब मेरा ऑफिस आ गया है और मैंने ज़बरदस्ती कार को रोककर उसके मुहं से अपने लंड को बाहर निकाल लिया। फिर उसने आग्रह करते हुए कहा कि बस दो मिनट की बात है, प्लीज इसको एक बार मुझे पी लेने दो, मैंने इतना मोटा लंड आज तक नहीं पिया है। फिर मैंने उसकी वो बात सुनकर उसको साफ मना कर दिया और मैंने अपनी चेन को वापस बंद कर लिया और मेरे अपनी कार से उतरने के बाद उसने मुझसे कहा कि में अपनी जिद का बहुत पक्का हूँ, उसको मेरे साथ बहुत अच्छा लगा हाँ अगर में कभी माना तो वो मेरे साथ चुदाई ज़रूर करवाना चाहेगी। फिर उसने इतना कहकर मुझसे मेरा फोन नंबर भी माँगा, लेकिन मैंने उसको नहीं दिया, क्योंकि वो बार बार मुझे फोन करके हर कभी तंग करती।
फिर उसने मुझसे पूछा कि अब हम दोबारा एक अच्छे दोस्त की तरह कब मिलेंगे? अगर में उसे अपना समझूं तो और तभी उसने मुझसे कहा कि वो मेरे लायक नहीं है। अब मैंने उसका मन रखने के लिए कहा कि हाँ हम ज़रूर मिलेंगे अगर हमारी किस्मत ने साथ दिया तो हम उसी जगह जहाँ वो मुझे पहली बार मिली थी, हम दोबारा वहीं पर मिलेंगे। अब वो मेरे मुहं से यह बात सुनकर हंस पड़ी और कहने लगी कि में हमेशा तुम्हारा इंतजार करूंगी। फिर मैंने खुद अपना हाथ उसकी तरफ बढ़ाया और कहा कि हाँ बेशक मैंने तुमसे सेक्स करने के लिए मना किया है और तुम एक रांड भी हो, लेकिन फिर भी तुम्हारा दिल बहुत अच्छा है। फिर मैंने उसके साथ अपना हाथ मिलाया और में मुस्कुराता हुआ उसको बोला कि में नहीं दूँगा, हाँ लेकिन में तुम्हे अपनी एक अच्छी दोस्त की तरह ज़रूर हमेशा याद रखूँगा और फिर अपनी जेब से मैंने 50/- का नोट निकालकर उसके हाथों में दबा दिया। अब वो मुझसे पूछने लगी कि यह किस लिए? मैंने उसको कहा कि यह तुम्हारी बोनी है, क्योंकि में तुम्हारा आज के दिन का पहला ग्राहक हूँ तुम्हे खाली हाथ नहीं जाने दूंगा, वरना तुम्हारा पूरा दिन खराब जाएगा और जो तुमने मेरे लंड को अपनी इतनी मेहनत से खड़ा किया था, यह उसके लिए भी है।
अब वो मुझसे बोली कि नहीं में यह पैसे आपसे नहीं ले सकती, आप जैसे लोग याद रखे जाते है उनसे कोई पैसा नहीं लिया जाता और वैसे भी आप मेरे लिए ग्राहक नहीं हो। फिर मैंने उसको कहा कि कोई बात नहीं है, लेकिन फिर भी तुम इसको अपने पास रख लो और अब वो मुझसे बोली कि अच्छा ठीक है में रखती हूँ, लेकिन पहले आप इस पर आपका नाम लिख दो, क्योंकि अगर आप किस्मत पर विश्वास करते हो तो जब भी हम दोबारा इस दुनिया के किसी भी कोने में मिलेंगे यह नोट हमारी दोस्ती की निशानी रहेगा। दोस्तों उसने मेरे उस साथ के लिए मुझे धन्यवाद भी बोला, आज पूरे तीन महीने हो गये है में उस रास्ते पर कम ही जाता हूँ। उस दिन के बाद वो मुझे नज़र भी नहीं आई, लेकिन मेरे लंड को वो अपने मुहं में लेकर पूरी तरह से बहकाकर अपना बनाकर चली गयी। अब लगता है कि काश उस दिन में ज़िद ना करता तो वो भी खुश हो जाती और मेरा कुँवारा लंड भी शांत हो जाता कम्बख़त उस दिन के बाद अब हर रोज मुझे इसके साथ मुठ मारकर काम चलना पड़ता है और में इसको उसकी याद दिलाकर उसके बारे में सोचकर मुठ मारकर शांत करता हूँ ।।
धन्यवाद …

5 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published.